Entity Tags ETags

Entity Tags (ETags) Kaise Configure Karen?

Entity Tags (ETags) Kya hai ? यह Blog की Performance को Speed up Kaise Karta hai ? WordPress Blog me Entity Tags (ETags) Kaise Configure या Fix Karen ? आज हम इन्हीं बातों पर Step by Step चर्चा करेंगे।

Entity Tags (ETags) Kya hai ?

Entity Tags को Short में ETags भी कहतें हैं। यह Web Cache को Validate करने के लिए HTTP का एक Mechanism होता है। इस प्रक्रिया में Browser के द्वारा Web Server को एक Conditional Request भेजी जाती है। जिसमे एक Unique ID Generate होती है।

ETags Mechanism में Browser किसी Specific Resources जो की Change नहीं हुई , के लिए Server को Request करता है। तब Server Request की गयी Resources को Cache के साथ Browser को वापस Send करता है। इस Mechanism से Loading Time Improve होती है।

क्यूँकि Browser के द्वारा Server से प्राप्त की गयी Resource की Cache ETag में उपलब्ध होते हैं, जिससे Browser को उस Resource के लिए अतरिक्त Request Send नहीं करना पड़ता।

Entity Tags उपयोग करने के लाभ क्या हैं ?

  • Loading Time Fast होती है – क्योंकी Browser द्वारा already प्राप्त request को Server को पुनः नहीं भेजना पड़ता। इससे Better Caching होती है और Loading Time घट जाता है।
  • Server Load घटता है – जब Server पर केवल New Request किये जायेंगे और पुराने Request को दोहराया नहीं जायेगा ,तो Server Load कम होगा।

Entity Tags उपयोग करने से हानि क्या हैं ?

  • Slow Loading Time – जब एक ही Resource के Cache को Multiple Times Request किया जाता है तो Loading Time Slow हो जाता है। जैसे – यदि हम Site पर Regularly Visit करतें हैं तो प्रत्येक Request को Send करने की आवश्यकता नहीं होती।
  • Server Load और Bandwidth बढ़ता है – जब एक ही Resource के Cache को Multiple Times Request किया जाता है तो Server पर Load बढ़ता है, और अधिक Bandwidth प्रयोग होती है।

EntityTags (ETags) Configured है कि नहीं , कैसे जाने ?

आपके Blog या Website में उपयोग हो रहे Server पर Entity Tag Configured है कि नहीं ? वैसे तो इसे पता करने के कई तरीके हैं। लेकिन सबसे सही और आसान तरीका है Pingdom Tools. यह Site आपके Site की Speed Test के साथ उसमे आने वाली कमियों को विधिवत दिखती है। Try करके देखें। यह Free है।

Entity Tags

जब आप अपनी Website या Blog को Pingdom.Tools पर Test करेंगे। तो यह आपके Site की Loading Speed के साथ-साथ उन Factors पर भी Focus करता है जिसके कारण आपके Site की Speed कम हुई है। यदि ETags को Configure करने की सलाह दी गयी है। जैसे –

ETags

तो हम यह जान जायेंगे की हमें Entity Tags या ETags को Configure करना है। आइये इसके तरीके जानतें हैं।

Entity Tag (ETags) ko Configure Kaise Karen ?

Method 1 : Apache Server के Configuration के द्वारा Configure करें –

यदि आपका Server Apache है। और आपके Web Hosting के द्वारा आपको Server का Root Access या SSH Access उपलब्ध है। तो –
httpd.conf / usr / local / apache / conf / httpd.conf पर जायें, और निचे दिए गए Code को वहाँ पर Copy करें। ध्यान दें – यदि कोड Manually Type कर रहें हैं , तो एक बार पुनः Check करने के बाद ही Save Apply करें।

<Directory /usr/ local/httpd/htdocs>
 
           FileETag MTime Size

</Directory>

Method 2 : Entity Tags को .htaccess File के द्वारा Configure करें –

यदि आपके Web Hosting के द्वारा Server Access या SSH Access सुविधा उपलब्ध नहीं है। तो आप यही कार्य cPanel पर File Manager पर .htaccess File पर Edit करके भी कर सकतें हैं। इसके लिए निचे दिए Code को Copy करें और .htaccess File पर Save करें।

Header unset Etag
FileETag none

संछिप्त निष्कर्ष :

उपरोक्त पोस्ट ” Entity Tags (ETags) Kaise Configure Karen? ” में हमने जाना की – Entity Tags (ETags) Kya hai ? Entity Tags उपयोग करने के लाभ क्या हैं ? Entity Tags उपयोग करने से हानि क्या हैं ? EntityTags (ETags) Configured है कि नहीं , कैसे जाने ?

Entity Tag (ETags) ko Configure Kaise Karen ? Method 1 : Apache Server के Configuration के द्वारा एवं Method 2 : Entity Tags को .htaccess File के द्वारा Configure करें।

Post को काफी सरलता से समझाने का प्रयास किया है। फिर भी यदि कोई Doubt हो तो Comment Box में पूछें। और Post को Share करना ना भूलें। धन्यवाद।

 <strong>लेखक</strong> : <strong>अखिलेश पयासी</strong>
लेखक : अखिलेश पयासी

मैं HindiStep.com का Founder और एक Professional Blogger हूँ। मैं आपके लिए Online Income से सम्बंधित जानकरियाँ इस ब्लॉग से नियमित Share करता हूँ।

आपको यह भी पढ़ना चाहिए।

Blog Speed बढ़ाने में CDN क्यों उपयोगी है ?

Cloudflare CDN को WordPress में Setup कैसे करें ?

  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top